बीएड टीईटी के अभ्‍यर्थियों ने अखिलेश यादव से मिलकर उठाई ये मांग

बीएड टीईटी का प्रतिनिधिमंडल
अखिलेश यादव से मिलने पहुंचा बीएड टीईटी-2011 का प्रतिनिधिमंडल।

आरयू ब्‍यूरो, 

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से आज बीएड टीईटी संघर्ष संगठन एवं बीएड टेस्ट 2011 उत्‍तीर्ण अभ्यर्थियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुलाकात कर प्रदेश में शिक्षकों की नियुक्ति की बात उठाई है। प्रतिनिधि मण्डल में अध्यक्ष सुनील यादव के साथ महिला अध्यक्षा रूखसाना खान, मीडिया प्रभारी, विजय यादव, प्रज्ञा मिश्रा एवं रेनू प्रजापति शामिल थीं।

मुलाकात के बारे में सपा के मुख्‍य प्रवक्‍ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि अभ्यर्थियों ने अखिलेश यादव पर भरोसा जताते हुए आशा व्यक्‍त की है कि वे इस संबंध में प्रभावी कार्यवाही में सहयोग करेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री ने उनकी समस्या के समाधान में हर संभव मदद का आश्‍वासन दिया है।

यह भी पढ़ें- जानें B.ed TET अभ्‍यर्थियों के ज्ञापन देने पर सर्वेन्‍द्र विक्रम से क्‍या बोली शिक्षा मंत्री

इस दौरान प्रतिनिधिमण्डल ने अखिलेश यादव को दिए ज्ञापन में कहा है कि देश में छह से 14 साल तक के बच्चों को मुफ्त एवं गुणवत्‍तापरक शिक्षा अनिवार्य है। प्रदेश में कुल 1,10376 प्राथमिक विद्यालयों में शिक्षण कार्य हेतु कुल 4,86,182 शिक्षकों की आवश्यकता है। जिसमें 1,77,866 शिक्षक ही विभाग में कार्यरत हैं। इस प्रकार से करीब 3,08,316 शिक्षकों की तत्काल आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें- जानें 68500 शिक्षकों की भर्ती व शिक्षामित्रों पर अनुपमा जायसवाल ने विधानसभा में दिया क्‍या जवाब

संगठन के अध्‍यक्ष सुनील यादव ने बताया कि विज्ञापन के बाद एक-एक अभ्‍यर्थी विभिन्‍न जिलों में नियुक्ति करने के लिए 25 से 30 हजार रुपए खर्च किए थे। इस तरह से उन लोगों के अरबों रुपए सरकार के खाते में चले गए, लेकिन इस बाद भी आज तक उन लोगों की नियुक्ति नहीं की जा रही है। सुप्रीम कोर्ट की हरि झंडी के बावजूद करीब 80 हजार अभ्‍यर्थी आज भी नियुक्ति पाने की आस में प्रताडि़त किए जा रहे हैं। इस बारे में उन लोगों ने अखिलेश यादव से मुलाकात कर मुद्दे को सदन में उठाने की मांग की है, जिसपर पूर्व मुख्‍यमंत्री ने सहमति जतायी है।

यह भी पढ़ें- विधानसभा घेरने जा रहे BTC अभ्‍यर्थियों को पीटने के बाद घसीटकर ले गयी पुलिस, देखें तस्‍वीरें

वहीं रूखसाना खान ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने 25 जुलाई 2017 को पारित आदेश में सरकार को छूट प्रदान की है कि वह सरकार भर्ती प्रक्रिया आरंभ कर सकती है, लेकिन भाजपा सरकार सिर्फ राजनीतिकरण के चलते उन लोगों के साथ सौतेला व्यवहार कर रही है।

यह भी पढ़ें- योगी सरकार को वादा याद दिलाने के लिए राजधानी में जुटे B.ed TET के अभ्‍यर्थियों ने किया प्रदर्शन, देखें तस्‍वीरें

1 COMMENT

LEAVE A REPLY