सहारनपुर में देखी गई अद्भुत खगोलीय घटना, ‘रिंग ऑफ फायर’, की तरह नजर आया सूर्य ग्रहण

'रिंग ऑफ फायर'
'रिंग ऑफ फायर'

आरयू संवाददाता, सहारनपुर। साल 2020 का पहला सूर्य ग्रहण जिसका अद्भुत नजारा यूपी के सहारनपुर जिले में रविवार को देखने को मिला। जैसा कि कहा गया था जिले के बेहट कस्बे में देश-विदेश की वैज्ञानिकों की नजर है, वह सच साबित हुआ। सूर्य ग्रहण के अवसर पर रिंग ऑफ़ फायर के तौर पर नजर आया। लोगों ने इस खगोलीय घटना को न सिर्फ देखा बल्कि अपने कैमरों में कैद भी की। सूर्य पूरी तरह से एक रिंग की तरह दिखाई दे रहा है और यह लम्हा ठीक 12:02 पर आया।

दरअसल, सहारनपुर जिले का बेहट कस्बा अचानक से वैज्ञानिकों में चर्चा का विषय बन गया था। यहां कुछ ऐसा होने वाला था जो अगले 360 सालों तक नहीं होगा। यही वजह थी कि उत्तर प्रदेश के 75 जिलों के हजारों गांवों में बेहट की चर्चा सबसे ज्यादा हो रही थी। बता दें कि कि बेहाट उत्तर प्रदेश की इकलौती ऐसी जगह है जहां से 21 जून को होने वाला वलयाकार सूर्यग्रहण पूरा दिखाई दिया। इसे देख कर लोगों काफी उत्‍साहित हुए।

यह भी पढ़ें- जालोर में धमाके के साथ आसमान से गिरा उल्‍कापिंड, करोड़ों में हो सकती है कीमत

सहारनपुर से जैसे-जैसे पूर्वी उत्तर प्रदेश और बुंदेलखंड की ओर बढ़ते जाएंगे वैसे वैसे सूर्य ग्रहण ग्रहण आंशिक होता जाएगा। इसी रिंग ऑफ फायर के कारण ढेर सारे खगोल शास्त्री और वैज्ञानिक 21 जून को बेहाट पहुंचे।

इस संबंध में लखनऊ के इंदिरा गांधी नक्षत्रशाला में वैज्ञानिक अधिकारी सुमित श्रीवास्तव ने बताया कि जिस जगह पर पूरा वलयाकार सूर्यग्रहण या पूर्ण सूर्यग्रहण होता है। वहां दोबारा ऐसी खगोलीय घटना 360 सालों बाद ही होती है। सुमित श्रीवास्तव बताते हैं कि सूर्य की कटान सबसे ज्यादा पश्चिमी यूपी में दिखेगी और सबसे कम पूर्वांचल में।

यह भी पढ़ें- सूर्यग्रहण देखते हुए प्रधानमंत्री ने शेयर की फोटो, कही ये बातें

LEAVE A REPLY