लखनऊ: BBAU के दीक्षांत समारोह में बोले राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद, वीमेन एंपॉवरमेंट उन्‍नत राष्‍ट्र की पहचान

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद
कार्यक्रम को संबोधित करते राष्ट्रपति।

आरयू ब्‍यूरो, लखनऊ। बेटियां अब हर क्षेत्र में बेटों से आगे निकल रही है। यही वीमेन एंपॉवरमेंट उन्नत राष्ट्र की पहचान है। आज भी पदक विजेताओं में भी बेटियों की संख्या ज्यादा रही। इस परिवर्तन को स्वस्थ समाज और उन्नत राष्ट्र के तौर पर देखा जाना चाहिए। बाबा साहब का सपना सच हो रहा है। उक्‍त बातें गुरुवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उत्तर प्रदेश दौरे के पहले दिन लखनऊ में बाबा साहब भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी के नौवें दीक्षांत समारोह में अपने संबोधन में कही।

राष्‍ट्रपति ने कहा कि दिसंबर 2017 में भी मुझे इस विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में शामिल होने का अवसर मिला था। यह एकमात्र विश्वविद्यालय है, जहां के किसी समारोह में मैं दूसरी बार आया हूं। यह विश्वविद्यालय बाबा साहब के विचारों के अनुरूप शिक्षा के माध्यम से अनुसूचित जातियों और जनजातियों के समावेशी विकास के लिए खास योगदान दे रहा है।

इस विश्वविद्यालय में प्रवेश के लिए 50 प्रतिशत सीटों का आरक्षण और अन्य सुविधाओं के विशेष प्रावधानों से विद्यार्थियों के लिए शिक्षा के अवसर बढ़े हैं। साथ ही इन विद्यार्थियों में से उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वालों को अलग से पदक प्रदान कर प्रोत्साहित किया जाना एक सराहनीय पहल है। राष्ट्रपति ने आगे कहा कि इस तरह के प्रयास विश्वविद्यालय की समावेशी संस्कृति को और मजबूत बनाएंगे। इस तरह ये विश्वविद्यालय समतामूलक समाज के बाबा साहब के सपने को पूरा करने की दिशा में सराहनीय योगदान दे रहा है।

रामनाथ कोविंद ने कहा कि साल 2017 में जब मैं यहां आया था, तब मैंने कुछ सुझाव दिए थे। मुझे यह जानकर खुशी हुई कि इस विश्वविद्यालय द्वारा ऐसे प्रयास किए जा रहे हैं, जिनसे विद्यार्थियों को शिक्षा व रोजगार के बेहतर अवसर प्राप्त हो रहे हैं। इस प्रयासों के लिए कुलाधिपति डॉ. प्रकाश बरतुनिया, कुलपति डॉ. संजय सिंह व विश्वविद्यालय की पूरी टीम की सराहना करता हूं।

यह भी पढ़ें- राष्‍ट्रपति भवन में रामनाथ कोविंद से मिलें प्रधानमंत्री, राष्‍ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर हुई चर्चा

राष्ट्रपति ने आगे कहा कि हम सभी जानते हैं कि विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के संविधान के शिल्पकार होने के साथ-साथ बाबा साहब ने हमारे बैंकिंग, इरीगेशन, इलेक्ट्रिसिटी सिस्टम, लेबर मैनेजमेंट सिस्टम, रेवेन्यू सिस्टम, शिक्षा व्यवस्था समेत कई क्षेत्रों में मूलभूत योगदान दिया था। वे एक शिक्षाविद, राजनेता, पत्रकार, समाज शास्त्रीय व समाज सुधारक थे। इसके साथ ही उन्होंने संस्कृति, धर्म और आध्यात्म के क्षेत्र में भी अपना योगदान दिया है।

मेधावियों को राष्ट्रपति ने दिया मेडल

मुख्य अतिथि राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने स्नातक के 2 छात्र बीएससी फ़ूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी के भानु प्रताप सिंह व बीटेक कंप्यूटर इंजीनियरिंग की प्रियंका गौतम, परास्नातक के 2 छात्र -एमएससी जियोलॉजी के शुभम मिश्रा व एमएससी एग्रीकल्चर की पूजा मीणा, एमफिल के  छात्र एमफिल स्टैटिस्टिक्स की शान्या बघेल व एमफिल इन्फॉर्मेशन एंड लाइब्रेरी साइंस की कुमारी निहारिका को मेडल व सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया। वहीं उन्होंने इतिहास विभाग की अंजू रावत को आरडी सोनकर फाउंडर समता समाज अवार्ड से नवाजा।

यह भी पढ़ें- राष्ट्रापति बनने के बाद पहली बार यूपी पहुंचे रामनाथ कोविंद ने कहा हर नागरिक है राष्ट्र निर्माता

LEAVE A REPLY